Search the web

Custom Search

Friday, February 4, 2011

Bekhayali ka khayal.... in words..

खूशबू ये तेरी, हवा जो लायी है;

हमपे ये कैसी, खुमारी छाई है.

खोया मैं तेरे, दिलकश ख्यालों में;

सोया मैं तेरी, चाहत के ख्वाबों में.

रातों को जागूँ, दिन को तड्पूँ..

बेख्याली में भी, तेरा ही ख्याल है;

क्या है ये, बस यही सवाल है..

dated: 20 Nov, 2010


No comments:

Post a Comment