Search the web

Custom Search

Saturday, September 25, 2010

भीगी भीगी पलकें

भीगी-भीगी पलकें

कुछ इशारे कर गयी

झुकती हुई नज़रें

कुछ इशारे कर गई

दिल की हर धडकन को

नाम तुम्हारे कर गई.



मदहोश हम हो गये

खामोश हम हो गये

पर तेरी ये खामोशी भी

वो सारी बात कर गई.

दिल कि हर धडकन को

नाम तुम्हारे कर गई.



गुनगुनाती हुई ये फ़िज़ा

मुस्कुराता हुआ ये समाँ

गुलशन में उठी एक आदिम सी महक

ज़िन्दगी में जागी एक नई सेहर.

दिल की हर धडकन को

नाम तुम्हारे कर गई..



भीगी भीगी पलकें

कुछ इशारे कर गई

दिल की हर धडकन को

नाम तुम्हारे कर गई..

dated-21 september,2010

No comments:

Post a Comment